Two Liner Shayari


Har Najar Mein Mumkin Nahin Hai Be-Gunaah Rahna,
Vada Ye Karein Ke Khud Ki Najar Mein Bedaag Rahein.

हर नजर में मुमकिन नहीं है बे-गुनाह रहना,
वादा ये करें कि खुद की नजर में बेदाग रहें।


Khwahishon Ka Mohalla Bahut Bada Hota Hai,
Behtar Hai Ham Jarooraton Ki Gali Mein Mud Jaen.

ख्वाहिशों का मोहल्ला बहुत बड़ा होता है,
बेहतर है हम जरूरतों की गली में मुड़ जाएं।



Siyaasat Ko Lahoo Peene Ki Lat Hai,
Varana Is Mulk Me Sab Khairiyat Hai.

सियासत को लहू पीने की लत है,
वरना इस मुल्क मे सब खैरियत है।


Hajaar Javabon Se Achchhi Hai Khamoshi Meri,
Na Jaane Kitne Sawalon Ki Aabroo Rakhti Hai.

हजार जवाबों से अच्छी है खामोशी मेरी,
ना जाने कितने सवालों की आबरू रखती है।



Najron Mein Doston Ki Jo Itna Kharab Hai,
Uska Qasoor Ye Hai Ke Wo Kaamyab Hai.

नजरों में दोस्तों की जो इतना खराब है,
उसका कसूर ये है कि वो कामयाब है।


Main Ek Shaam Jo Roshan Diya Utha Laya,
Tamam Shahar Kahin Se Hawa Utha Laya.

मैं एक शाम जो रोशन दिया उठा लाया,
तमाम शहर कहीं से हवा उठा लाया।


Kachche-Rishte, Aur Adhoora-Apnaapan,
Mere Hisse Mein Aai Hain Aisi Hi Saugaaten.

कच्चे-रिश्ते, और अधूरा-अपनापन,
मेरे हिस्से में आयी हैं ऐसी ही सौग़ातें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.