Two Liner Shayari


Kamjor Pad Gaya Hai Mujhse Tumhara Taalluk,
Ya Kaheen Aur Silsile Majboot Ho Gaye Hain.

कमज़ोर पड़ गया है मुझसे तुम्हारा ताल्लुक,
या कहीं और सिलसिले मजबूत हो गए हैं।


Khud Ko Bikharne Mat Dena, Kabhi Kisi Haal Mein,
Log Gire Hue Makan Ki, Eenten Tak Le Jate Hain.

खुद को बिखरने मत देना, कभी किसी हाल मे,
लोग गिरे हुए माकान की, ईंटें तक ले जाते हैं।



Chal Pade Hain Fikare Yaar Dhuen Mein Uda Ke
Meree Neem See Zindagee Shahad Kar De.

चल पड़े हैं फ़िकरे यार धुएं में उड़ा के
मेरी नीम सी ज़िन्दगी शहद कर दे।


Hamne Roti Huyi Aankhon Ko Hasaya Hai Sada,
Is Se Behtar Ibadat To Nahin Hogi Hamse.

हम ने रोती हुई आँखों को हँसाया है सदा,
इस से बेहतर इबादत तो नहीं होगी हमसे।


Kaun Kaisa Hai Ye Hi Fikr Rahi Tamaam Umr,
Ham Kaise Hain Ye Kabhi Bhool Kar Bhi Nahi Socha.

कौन कैसा है ये ही फ़िक्र रही तमाम उम्र,
हम कैसे हैं ये कभी भूल कर भी नही सोचा।



Seekh Nahin Pa Raha Hun Meethe Jhooth Bolane Ka Hunar,
Kadave Sach Se Hamse Na Jane Kitne Log Rooth Gaye.

सीख नहीं पा रहा हूँ मीठे झूठ बोलने का हुनर,
कड़वे सच से हमसे न जाने कितने लोग रूठ गये।


Yahaan Sab Khamosh Hain Koi Aawaaz Nahin Karta,
Sach Bolkar Koi, Kisi Ko Naraaz Nahin Karta.

यहाँ सब खामोश हैं कोई आवाज़ नहीं करता,
सच बोलकर कोई, किसी को नाराज़ नहीं करता।


If you have more beautiful shayari, then share with us.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.